Close

Logo ki Kadwi Sachchai

कङवी सच्चाईँ… . नदी तालाब मेँ नहाने मेँ शर्म आती है, और स्विमिँग पूल मेँ तैरने को फैशन कहते हो…. . गरीब को एक रुपया दान नहीँ कर सकते, और वेटर को टीप देने मेँ गर्व महसूस करते हो.. . माँ बाप को एक गिलास पानी भी नहीँ दे सकते, और नेताओँ को देखते ही…

Kudrat ka sabse bada sach

–:: कुदरत का सबसे बडा सच ::– यदि आप फूलों पर सो रहे हैं तो ये आपकी पहली रात है l और यदि फूल आप पर सो रहे है तो ये आपकी आखिरी रात है l (अजब तेरी दुनिया गज़ब तेरा खेल) —————————— मोमबत्ती जलाकर मुर्दों को याद किया जाता है l और मोमबत्ती बुझाकर…

School Mein Aag aur Chhutti

एक बार एक स्कूल मे आग लग गई। स्कूल की छुट्टी हो गई । सब बच्चे स्कूल से घर ख़ुशी ख़ुशी जा रहे थे।.. खुश इसलिए की स्कूल मे आग लग गई। अब स्कूल में नही आना पड़ेगा। लेक़िन एक बच्चा बड़ा दुखी होकर स्कूल से जा रहा था। टीचर ने उसको देखा उसे अपने…

Maa aur Biwi – Message

माँ और बीवी दोनों को हमेशा बेपनाह इज़्ज़त और मोहब्बत दो .. क्युकी एक तुम्हें इस दुनिया में लायी है , और दूसरी सारी दुनिया को छोड़ कर तुम्हारे पास आयी है ..

Samajhdar Kutta aur Uska Malik – Zindagi ki Sachchai

रात के समय एक दुकानदार अपनी दुकान बन्द ही कर रहा था कि एक कुत्ता दुकान में आया । उसके मुॅंह में एक थैली थी। जिसमें सामान की लिस्ट और पैसे थे। दुकानदार ने पैसे लेकर सामान उस थैली में भर दिया। कुत्ते ने थैली मुॅंह मे उठा ली और चला गया। दुकानदार आश्चर्यचकित होके…

Hoshiyaar Bachcha aur Ramayan ki Story

अध्यापक : बच्चों, रामचंद्र ने समुन्द्र पर पुल बनाने का निर्णय लिया । पप्पू : सर मैं कुछ कहना चाहता हूँ। अध्यापक : कहो बेटा । पप्पू : रामचन्द्र का पुल बनाने का निर्णय गलत था । अध्यापक : वो कैसे ? पप्पू : सर उनके पास हनुमान थे जो उड़कर लंका जा सकते थे…

साधना के चार नियम।

ब्राह्मे मुहूर्ते प्राच्यस्यों मेरुदण्ड प्रतन्यहि। पज्ञासनं समासीनः सन्ध्या वन्दन माचरेत्॥ (ब्राह्मे मुहूर्ते) ब्राह्म मुहूर्त में (प्राच्यास्याः) पूर्वभिमुख होकर (मेरुदंडं) मेरुदंड को (प्रतन्य हि) तानं कर अर्थात् सीधा कर (पऽसनं समासीनः) पऽसनं पर बैठ कर (सन्ध्या वन्दनं ) सन्ध्या वनदन (आचरेत्) करे। गायत्री अभिनन्दन के लिए चार बातें भली प्रकार समझ लेने की है। क्यों कि…

Sukh Dukh par Kavita

ऐ “सुख” तू कहाँ मिलता है क्या तेरा कोई स्थायी पता है क्यों बन बैठा है अन्जाना आखिर क्या है तेरा ठिकाना। कहाँ कहाँ ढूंढा तुझको पर तू न कहीं मिला मुझको ढूंढा ऊँचे मकानों में बड़ी बड़ी दुकानों में स्वादिस्ठ पकवानों में चोटी के धनवानों में वो भी तुझको ढूंढ रहे थे बल्कि मुझको…

સુપ્રીમ કોર્ટના કૌટુંબિક વિખવાદનો ઉકેલ લાવતા નામદાર ન્યાયમૂર્તિ

સુપ્રીમ કોર્ટના કૌટુંબિક વિખવાદનો ઉકેલ લાવતા નામદાર ન્યાયમૂર્તિ સાહેબ ની અમૂલ્ય સલાહ. 🤔 1. ક્યારેય તમારા પુત્ર અને પુત્રવધૂ ને તમારી સાથે રાખવા ઉત્સુક ન બનો. તેમને પોતાની રીતે પોતાનું ઘર લઈ જુદા રહેવા સમજાવો. એમ કરવાથી પુત્ર સાથે અને તેના સાસરિયા સાથે સારા સંબંધો રહે છે અને પુત્ર ને પોતાનું ઘર પોતે જ બનાવવાની…

આવતા ૧૦-૧૫ વર્ષમાં એક એવી પેઢી સંસાર છોડી ચાલી જશે.

આવતા ૧૦-૧૫ વર્ષમાં એક એવી પેઢી સંસાર છોડી ચાલી જશે. જેના ગયા પછી ખૂબ પસ્તાવો થશે. વાત કડવી છે પણ સત્ય છે. આ પેઢીના લોકો બિલકુલ અલગ જ છે. રાત્રે જલ્દી સુવાવાળા, સવારે જલ્દી જાગવાવાળા,સવારના અંધકારમાં ફરવાનિકળવા વાળા આંગણાના ફૂલછોડને પાણી પીવડાવવાવાળા, દેવપૂજા માટે ફૂલ તોડવાવાળા, રોજ પાઠ પૂજા કરવાવાળા અને રોજ મંદિર જવાવાળા… રસ્તામાં…