Close

Ab Hame Kabhi Tera Didar Nasib Na hoga

अब हमे कभी तेरा दीदार नसीब ना होगा,
दोसती का रिशता कभी करीब ना होगा,
करोध मे पैदा की हमने जो गलतफहमियां,
शायद हमसे बडा कोई बदनसीब ना होगा..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *