Close

40+ 2 Line Shayari For Youngster

“सुकून” की बात मत कर ऐ ग़ालिब,
बचपन वाला” इतवार”अब नहीं आता।

==============================

देख कर उसको तेरा यूँ पलट जाना,
नफरत बता रही है तूने मोहब्बत गज़ब की थी।

==============================

जो जीने की वजह है तेरा इश्क़,
जो जीने नहीं देता वो भी है तेरा इश्क़।

==============================

रूठा हुआ है मुझसे इस बात पर ज़माना,
शामिल नहीं है मेरी फ़ितरत में सर झुकाना।

==============================

खो रहे है वो सब एक एक कर के मुझे,
जो लोग मुझे संभाल कर रखने वाले थे।

==============================

तुमसे ही रूठ कर तुम्ही को याद करते हैं,
हमे तो ठीक से नाराज़ होना भी नही आता।

==============================

इश्क ने कब इजाजत ली है आशिक़ों से,
वो होता है, और होकर ही रहता है।

==============================

अभी तो साथ चलना है समंदरों की लहरों मॆं,
किनारे पर ही देखेंगे किनारा कौन करता है।

==============================

लिखनी पड़ेगी फिर से इस मुल्क़ की तारीख़,
हालात ने तो मुल्क़ का नक़्शा बदल दिया।

==============================

दिल में सब को आने देता हूँ शक न कर,
लेकिन तू जहाँ बसती है वहाँ किसी को नही जाने देता।

==============================

वो उम्र भर कहते रहे, तुम्हारे सीने में दिल ही नहीं,
दिल का दौरा क्या पड़ा, ये दाग भी धुल गया।

==============================

तू इश्क की दूसरी निशानी दे दे मुझको,
आंसू तो रोज गिर कर सूख जाते है।

==============================

तहजीब की मिसाल गरीबो के घर पे है,
दुपट्टा फटा हुआ है लेकिन सर पे है।

==============================

मुझे परखने में तूने पूरी जिंदगी लगा दी,
काश कुछ वक्त समझने में लगाया होता।

==============================

रहनुमाओं ने ही भटकाये है जिंदगी के रास्ते,
रूह उतरी थी ज़मीं पे मँजिल का पता लेकर।

==============================

न रख इतना गुरूर अपने नशे में ए शराब,
तुझसे ज़्यादा नशा रखती है आंखे मेरे महबूब की।

==============================

ये कैसा तुम्हारा ख्याल है जो मेरा हाल बदल देता है,
तूम दिसम्बर की तरह हो जो पूरा साल बदल देता है।

==============================

क्यूं बोझ हो जाते है वो झुके हुए कंधे साहब,
जिन पर चढ़कर तुम कभी मेला देखा करते थे।

==============================

हिसाब किताब हमसे ना पूछ अब, ऐ ज़िन्दगी,
तूने सितम नहीं गिने, तो हमने भी ज़ख्म नहीं गिने।

==============================

हासिल कर के तो हर कोई मोहब्बत कर सकता है,
बिना हासिल किए किसी को चाहना.. कोई हम से पूछे।

==============================

गलत सुना था की इश्क आँखों से होता है,
दिल तो वो भी ले जाते है जो पलकें तक नहीं उठाते।

==============================

कर गया है इतना खाली वो शख्श मुझे,
मेरा.. मुझसे ही मुझमे सामना नही होता।

==============================

मत पूछो के मेरा कारोबार क्या है दोस्तो..
मुस्कुराहटों की छोटी सी दुकान है, नफरतों के बाज़ार में।

==============================

तुमसे ही माँगी हैं.. दुआएं तुम्हारे लिए,
हर लम्हा सज़दे में मैने तुम्हें रब की तरह देखा है।

==============================

हम अपनी रुह तेरे ज़िस्म मे ही छोड़ आये,
तुझसे गले लगाना तो बस एक बहाना था।

==============================

कौन कहता है के दूरियो से मिट जाती है मोहब्बत,
मिलने वाले से तो ख्यालों मे भी मिल आया करते हैं।

==============================

क्या पता क्या खूबी है उनमे और क्या कमी है हम में,
वो हमे अपना नही सकते और हम उन्हे भुला नही सकते।

==============================

खाली पलके झुका देने से नींद नही आती है जनाब,
सोते वो लोग है जिनके पास किसी की यादें नहीं होती।

==============================

ज़माने में आये हो तो जीने का हुनर भी रखना,
दुश्मनों से कोई खतरा नहीं बस अपनो पे नजर रखना।

==============================

तेरी मौजूदगी महसूस वो करे जो जुदा हो तुझसे,
मैंने तो अपने आप में तुझे बसाया है एक एहसास की तरह।

==============================

मेरे ख्वाबों का भी शौक तेरी याँदों में भी मजा.. उफफफ
समझ नहीं आता सोकर तेरा दिदार करू या जाग कर तुझें याद करू।

==============================

कोई सिखा दे हमें भी वादों से मुकर जाना,
बहुत थक गये हैं.. निभाते निभाते।

==============================

सो जाऊ या तेरी याद में खो जाऊ,
ये फैसला भी नहीं होता और सुबह हो जाती है।

==============================

मुझे क्या करना है तेरे इश्क की कीमत जानकर,
तेरे भरोसे पे बिकना मंजूर है मुझे।

==============================

तहजीब की मिसाल गरीबो के घर पे है,
दुपट्टा फटा हुआ है लेकिन सर पे है।

==============================

इजहार गर जुबां से हो तो.. मजा क्या है ,
चाहने वाला जो निगाहों को पढ़े.. तो बुरा क्या है।

==============================

वो कर दिया तूने जो ना कर पाए हकीम भी,
के तेरे छूने से अब मीठा हो गया है नीम भी।

==============================

हिसाब किताब हमसे ना पूछ अब, ऐ ज़िन्दगी..
तूने सितम नहीं गिने, तो हमने भी ज़ख्म नहीं गिने।

==============================

हासिल कर के तो हर कोई मोहब्बत कर सकता है,
बिना हासिल किए किसी को चाहना.. कोई हम से पूछे।

==============================

मेरी हर तलाश तुम पर ही खत्म होगी,
मैंने अपनी आरज़ूओं को बस इतने ही पंख लगाये हैं।

==============================

मेरी बाहें जब तरसती हैं तुम्हे अपने सीने से लगाने को,
मैं कागज़ पे उतार के तुम्हें, अक्सर अपने गले लगाता हूँ।

==============================

एक मशवरा चाहिए था साहेब,
दिल तोड़ा है एक बेवफा ने, जान दे दूं या जाने दूं।

==============================

तेरी चाहत में रुसवा यूं सरे बाज़ार हो गये,
हमने ही दिल खोया और हम ही गुनाहगार हो गये।

==============================

सीख नहीं पा रहा हूँ मीठे झूठ बोलने का हुनर,
कड़वे सच ने हमसे न जाने कितने लोग छीन लिए।

==============================

लोगों की नज़रों में फर्क अब भी नहीं है,
पहले मुड़ कर देखते थे अब देख कर मुड़ जाते हैं।

==============================

मसला ये नहीं है के दर्द कितना है,
ग़ालिब, मुद्दा ये है कि परवाह किस किस को है

==============================

एक गफ़लत सी बनी रहने दो, हर रिश्ते में..
किसी को इतना न जानो कि जुद़ा हो जाये।

==============================

क्या बेचकर हम ख़रीदें फ़ुर्सत-ऐ-जिंदगी,
सब कुछ तो गिरवी पड़ा है ज़िम्मेदारी के बाज़ार में।

==============================

पूछने से पहले ही.. सुलझ जाती हैं सवालों की,
गुत्थियां.. कुछ आँखें इतनी हाजिर जवाब होती हैं।

==============================

जिसने कतरे भर का भी किया है एहसान हम पर,
वक्त ने मौका दिया तो दरिया लौटाएँगे हम उन्हें।

==============================

तेरी यादों की नौकरी में, गज़ल की पगार मिलती है,
खर्च हो जाते हैं झूठे वादे, व़फा कहाँ उधार मिलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *