Close

40+ 2 Line Shayari For Youngster

अजीब तमाशा है मिट्टी से बने लोगो का,
बेवफाई करो तो रोते है और वफा करो तो रुलाते है।

===========================

अकेला वारिस हूँ उसकी तमाम नफरतों का,
जिसके सारे शहर में आशिक हजार है। ✍

===========================

मोहब्बत तेरी सूरत से नही तेरे किरदार से है,
शौक-ऐ-हूस्न होता तो बाजार चले जाते।

===========================

तेरी आंखों से एक चीज़ लाजवाब पीता हूँ,
मैं हूँ तो बहोत गरीब पर सबसे महँगी शराब पीता हूँ।

===========================

मुश्किल होता है जवाब देना.. जब कोई
खामोश रह कर भी.. सवाल कर लेता है।

===========================

बेचैनियाँ बाजारों में नहीं मिला करती.. मेरे दोस्त
इन्हें बाँटने वाला, कोई बहुत नजदीक का होता हैं।

===========================

मुझे आजमाने वाले शख्स तेरा शुक्रिया,
मेरी काबिलियत निखरी है तेरी हर आजमाइश के बाद।

===========================

गुलाबों ने ख्वाबों की हक़ीक़त सिखाई है मोहब्बत
भले ही न मिली हो मगर प्रीत हमने दिल से निभाई है।

===========================

प्यार हमेशा उससे करना जो आँखो के..
साथ साथ दिल की धड़कनो को भी पढ़ सखे।

===========================

इतनी हिम्मत तो नहीं किसी को हाल-ये-दिल सुना सके,
बस जिसके लिये उदास है बो महसूस करे तो काफी है।

===========================

खरीद पाऊँ खुशियाँ उदास चेहरों के लिए,
मेरे किरदार का मोल इतना करदे खुदा।

===========================

तड़प रहे है हम तुम्हारे एक अल्फाज के लिए,
तोड़ दो ख़ामोशी मुझे ज़िंदा रखने के लिए।

===========================

उसके लिये तो मैंने यहां तक दुआएं कि है..
उसे कोई चाहे भी तो.. बस मेरी तरह चाहे।

===========================

कोई समझे तो एक बात कहूँ साहब,
तनहाई सौ गुना बेहतर है मतलबी लोगों से। ❣

===========================

तुम्हारी और मेरी रात में बस फर्क इतना है,
तुम्हारी सो के गुजरी है, हमारी रो के गुजरी है।

===========================

महफूज़ रख, बेदाग रख, मैली ना कर जिंदगी,
मिलती नहीं इंसान को किरदार की चादर नई।

===========================

शुकर किये जा तू मालिक का शुकराना ही भक्ति है,
शिकवे गिले को लब पर अपने न लाना ही भक्ति है।

===========================

बहुत गुस्ताख है तेरी यादे इन्हे तमीज सिखा दो,
कमबख्त दस्तक भी नही देती और दिल में उतर जाती है।

===========================

लगता है आँखों से अश्क़ों की तरह बरसते रहेंगे हम,
ताउम्र प्यार के लिए इसी तरह तरसते रहेंगे हम। 💕

===========================

ख़त्म हुआ अब महबूब की गलियों मे घूमने का दस्तूर,
अब जब भी उनकी याद आती है, DP खोल के देख लेते हैं।

===========================

ताश के पत्ते खुशनसीब है यारों,
बिखरने के बाद उठाने वाला तो कोई है।

===========================

उलझते सुलझते हुए जिंदगी के हर पल और,
खुश्बू बिखेरता हुआ तेरा खुश्बुदार सा ख्याल।

===========================

कौन कहता है आग से आग बुझती नहीं,
हुज़ूर दिल से ज़रा दिल लगा कर तो देखो।

===========================

मेरा कत्ल करने की उसकी साजीश तो देखो,
करीब से गुज़री तो चेहरे से पर्दा हटा लिया।

===========================

मुझे परखने में तूने पूरी जिंदगी लगा दी,
काश! कुछ वक्त समझने में लगाया होता।

===========================

अच्छा हुआ कि तुमने हमें तोड़ कर रख दिया,
घमण्ड भी हमें बहुत था तेरे होने का।

===========================

जैसे जलानी थी हमने जला दी जिंदगी..
अब धुँए पर तमाशा कैसा और राख पर बहस कैसी।

===========================

डालना अपने हाथों से कफन मेरी लाश पर,
की तेरे दिए जखमों के तोहफे कोई और ना देख ले।

===========================

मुड़े-मुड़े से हैं किताब-ऐ-इश्क़ के पन्ने,
ऐ-सनम ये कौन है जो हमें हमारे बाद पढ़ता है।

===========================

ये कैसा तुम्हारा ख्याल है जो मेरा हाल बदल देता है,
तूम दिसम्बर की तरह हो जो पूरा साल बदल देता है।

===========================

मै नहीं हूँ बेवफ़ा मेरा ऐतवार कर ले,
दे दे मुझे मौत या फिर प्यार कर ले।

===========================

तेरी मोहब्बत मे एक बात सीखी है,
तेरे साथ के बिना ये सारी दुनिया फीकी है।

===========================

कुछ इस कदर तुमसे मेरी निग़ाह मिल गई,
भटके राही को जैसे जन्नत की राह मिल गई।

===========================

जो कुछ भी हूं, पर यार, गुनहगार नहीं हूं,
दहलीज हूं, दरवाजा हूं, पर मैं दीवार नहीं हूं।

===========================

सो जाऊ या तेरी याद में खो जाऊ,
ये फैसला भी नहीं होता और सुबह हो जाती है।

===========================

लोग कहते हैं ज़मीं पर किसी को खुदा नहीं मिलता,
शायद उन लोगों को दोस्त कोई तुम-सा नहीं मिलता।

===========================

तुम्हें किसी और की तकदीर में कैसे जाने दूं,
मेरा वश चले तो, तुम्हें किसी के सपनों में भी ना आने दूं। ❣

===========================

​दर्द की वजह बहुत बड़ी नहीं बस इतनी सी है,
​बेहद करीब था एक शख्स जो अब कहीं नजर नहीं आता।

===========================

याद आयेगी हर रोज, मगर तुझे आवाज न दूंगा,
लिखूंगा तेरे ही लिये हर लब्ज़ मगर तेरा नाम न लूंगा।

===========================

मुझे तो आज पता चला की मैं किस कदर तन्हा हूँ,
पीछे जब भी मुड़ कर देखूं तो मेरा साया भी मुँह फेर लेता है।

===========================

शिकवें आँखों से आँसू बन के गिर पड़े,
वरना होठों से शिकायत कब की मैंने।

===========================

माना की बड़ा ही खुबसूरत हुस्न है तेरा,
लेकिन दिल भी होता तो क्या बात होती।

===========================

यूँ कफ़न उठाते हो रुख से बार बार,
क्या करोगी मेरा जला हुआ दिल लेकर।

===========================

वो एक रात जला तो उसे चिराग कह दिया,
हम बरसो से जल रहे है, कोई तो खिताब दो।

===========================

क्यूं बोझ हो जाते है वो झुके हुए कंधे साहब,
जिन पर चढ़कर तुम कभी मेला देखा करते थे।

===========================

हिसाब किताब हमसे ना पूछ अब, ऐ ज़िन्दगी..
तूने सितम नहीं गिने, तो हमने भी ज़ख्म नहीं गिने।

===========================

हासिल कर के तो हर कोई मोहब्बत कर सकता है,
बिना हासिल किए किसी को चाहना.. कोई हम से पूछे।

===========================

हमारे शहर मै फूलो कि कोई दूकान नही,
बस एक आपके मुस्कुराने से काम चलता है।

===========================

शीशा और पत्थर संग संग रहें तो बात नहीं घबराने की,
शर्त इतनी है कि दोनों ज़िद न करें टकराने की।

===========================

एक चाहत होती है, जनाब़.. अपनों के साथ जीने की,
वरना पता तो हमें भी है कि.. ऊपर अकेले ही जाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *